Better Alternative to Dialysis with Amazing Quality of Life

Kidney Failure Treatment
Kidney Failure Treatment

किडनी फेलियर का नया उपचार (Better alternative to Dialysis)


  • क्रिएटिनिन कम करने में सक्षम: हमारे उपचार से किडनी के कार्य प्रणाली में सुधार होता है जिससे क्रिएटिनिन स्वतः घट जाती है और डायलिसिस की जरूरत ही नहीं पड़ती है
  • डायलिसिस से छुटकारा: हमारे उपचार के द्वारा डायलिसिस की आवश्यकता को कम किया जा सकता है. ज्यादातर मामलों में डायलिसिस की जरूरत नहीं पड़ती है.
  • ट्रांसप्लांट से बेहतर परिणाम: ट्रांसप्लांट की अनिश्चितता से बचकर लम्बी जिंदगी की संभावना। क्योंकि ट्रांसप्लांट की सफलता की संभावना बहुत ही कम है और ट्रांसप्लांट के बाद दवाईयों के दुष्परिणाम बेहद खतरनाक होते हैं। 
  • जीवन-स्तर में सुधार: प्रसन्नचित्त और सुखी जीवन की संभावना। दूसरों पर निर्भरता नहीं के बराबर।

हजारों किडनी मरीजों के जीवन में सुधार – डायलिसिस से मिला छुटकारा


हमारे चिकित्सकों को किडनी रोग के उपचार का लम्बा अनुभव है। हजारों लोग इनके उपचार से लाभान्वित हुए हैं और उन लोगों की किडनी में इतना सुधार हुआ है कि उनको बेहतर जीवन के साथ डायलिसिस से भी छुटकारा मिल सका है। हमारे उपचार से 15-16 क्रिएटिनिन वाले किडनी के मरीज भी अच्छा जीवन जी रहे है और उनका क्रिएटिनिन अब लगभग सामान्य है। मरीजों के विचार आप मरीज के द्वारा दिए हुए इंटरव्यू में सुन सकते हैं।

Better alternative to dialysis
Dialysis alternative with great results

किडनी का नवीनतम उपचार आपकी जिंदगी बदल सकता है


हमारे उपचार से किडनी रोगी इतने स्वस्थ हो जाते हैं कि वह मेहनत-मजदूरी अथवा ड्यूटी ज्वाइन कर पहले की तरह कार्य कर सकते हैं। डायबिटीज, ब्लड प्रेशर इत्यादि में किडनी को फेल होने से बचाया जा सकता है।

Disadvantage of Dialysis

हरेक डायलिसिस के साथ किडनी का कुछ अंश खराब हो जाता है. और धीरे-धीरे किडनी पूर्णतः खराब हो जाता है और फिर डायलिसिस की प्रक्रिया बंद करनी पड़ती है.

Know more about our life Changing Researches


हमारा उपचार किडनी की किसी भी तरह की बिमारी में कारगर है। अपॉइंटमेंट के लिए कॉल करें: +919386980753, 7870325575

किडनी डिजीज | Kidney Disease


किडनी (गुदॉ) मानव शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है। किडनी की खराबी, किसी गंभीर बीमारी या मौत का कारण भी बन सकता है। उनके दो प्रमुख कार्य हैं – हानिकारक और विषैले कचरे को शरीर से बाहर निकालना और शरीर में पानी, तरल पदार्थ, खनिजों (इलेक्ट्रोलाइट्स के रूप में सोडियम, पोटेशियम आदि) नियमन करना है। अगर आपके किडनी या गुर्दे काम करना बंद कर देते तो आपका शरीर बेकार हो जाता है । क्योंकि किडनी हमारे शरीर में सफाई का काम करती हैं। यह गंदगी बाहर निकालने वाले सिस्टम का एक बहुत अहम हिस्सा होती हैं। किडनी हमारे शरीर के खून में से गन्दगी को मूत्र के रास्ते  बाहर निकलने में सहायता करती है । हमारी दोनों किडनियों में छोटे-छोटे लाखों फिल्टर होते हैं जिन्हें नेफरोंस कहते हैं। नेरोफेंस हमारे खून को साफ करने का काम करते हैं। किडनी में होने वाले इस सफाई सिस्टम के कारण हमारे शरीर से हानिकारक तत्व पेशाब के साथ बाहर निकल जाते हैं। किडनी के अन्य कामों में लाल रक्त कण का बनना और फायदेमंद हार्मोंस रिलीज करना शामिल हैं। यही नही किडनियों के जरिए रिलीज हुए हार्मोंस हमारे शरीर के ब्लड प्रेशर को नियंत्रित होता है और हड्डियों के लिए बेहद जरूरी विटामिन डी को भी बनाता है।

गुर्दे की बीमारियों के प्रकार | Type of Kidney Disease


एक्यूट किडनी फेलियर (Acute Kidney Failure )

संपूर्ण रूप से कार्य करनेवाली दोनों किडनी किसी कारणवश अचानक नुकसान से थोडे समय के लिए काम करना कम या बंद कर दे, तो उसे हम एक्यूट किडनी फेल्योर कहते है। Acute Kidney Failure को एक्यूट किडनी इंजुरी भी कहते है।  इसमें आपकी किडनी अस्थायी रूप से बंद हो जाती है। ये रोग आमतौर पर पूरी तरह ठीक हो जाता है और इसमें डायलसिस और किडनी प्रत्योरोपण की जरूरत नहीं पड़ती है। एक्यूट किडनी खराब होने का सबसे सामान्य कारण डायरिया होता है। डायरिया के कारण शरीर से पानी निकल जाने की वजह से किडनी को नुकसान होता है। इसके अलवा एक्यूट किडनी खराब होने के कारणों में दवाएं (खासतौर पर पेन किलर व एंटिबायॉटिक्स) भी शामिल हैं।

क्रोनिक किडनी फेलियर (Chronic Kidney Failure) CKD

क्रोनिक किडनी फेलियर में आपकी किडनियां पूरी तरह खराब हो जाती हैं । क्रोनिक किडनी फेलियर (क्रोनिक किडनी डिजीज CKD) में अनेक प्रकार के रोगों के कारण किडनी की कार्यक्षमता क्रमशः महीनों या वर्षों में कम होने लगती है और दोनों किडनी धीरे-धीरे काम करना बंद कर देती हैं| पहला, आप किडनी प्रत्यारोपण (Kidney Transplant) कराएं, या फिर सारी उम्र डायलसिस (Kidney Dialysis) पर रहें। डायबटिज और हाई ब्लडप्रशेर क्रोनिक किडनी डिजीज के मुख्य हैं।

डायाबिटिक नेफ्रोपौथी (Diabetic Nephropathy)

मधुमेह के कारण जो किडनी की समस्या होती है उसे डायाबिटिक किडनी डिजीज (Diabetic Nephropathy) कहते हैं। लम्बे समय से चली आ रही मधुमेह की बीमारी में लगातार उच्च शर्करा (Sugar) से किडनी की छोटी रक्त वाहिकाओं को काफी नुकसान होता है। शुरू में इस नुकसान के कारण पेशाब में प्रोटीन की मात्रा दिखाई देती है। जिसके फलस्वरूप उच्च रक्तचाप, शरीर में सूजन जैसे लक्षण भी उत्पन्न हो जाते हैं जो धीरे-धीरे किडनी को ओर नुकसान पहुँचते हैं। किडनी की कार्य क्षमता में लगातार गिरावट होती जाती है और किडनी, विफलता की ओर अग्रसर हो जाती हैं।

पोलिसिस्टिक किडनी डिजीज (Poly-cystic kidney disease) PKD

किडनी सिस्ट पानी के तरल पदार्थ से भरी एक सूजन है जो कि एक या दोनों किडनी पर बनती है। किडनी सिस्ट गोल होते हैं, एक पतली, स्पष्ट दीवार होती है और आकार में सूक्ष्म से लेकर लगभग 5 सेमी व्यास की होती है। ये सिस्ट गंभीर स्थितियों से जुड़े हो सकते हैं, जो बिगड़ा हुआ किडनी फंक्शन की ओर ले जाते हैं, लेकिन आमतौर पर इन्हें सिंपल किडनी सिस्ट के रूप में जाना जाता है, जो जटिलताओं का कारण नहीं बनते हैं। इसे पोलिसिस्टिक किडनी डिजीज (Polycystic kidney disease) भी कहा जाता है। लक्षणों में उच्च रक्तचाप, पीठ या बगल में दर्द और पेट में सूजन दिखाई देते है।

किडनी खराब होने के लक्षण

  • हाथों और पैरों में सूजन उत्पन्न हो जाती है।
  • रक्तचाप (ब्लड प्रेशर) बढ़ जाता है। हड्डियों में दर्द होता है।
  • कमजोरी, जी मिचलाना और उल्टी महसूस होती है।
  • रोग के बढ़ जाने पर सांस लेने में दिक्कत महसूस होती है।
  • नींद पूरी न होना महसूस होता है।

हमारा उपचार किडनी की किसी भी तरह की बिमारी में कारगर है। इस उपचार के परिणाम स्वरुप किडनी को स्वस्थ्य बनाया जा सकता है और इसका परिणाम डायलिसिस अथवा ट्रांसप्लांट से बेहतर है।अपॉइंटमेंट के लिए कॉल करें: +919386980753, 7870325575

Call Now Button